इस्माईल बिन इमाम सादिक़ (अ)

wikishia से
इस्माईल बिन इमाम जाफ़र सादिक़ (अ)
भूमिका इस्माईलियों के सातवें इमाम
मृत्यु वर्ष 143 या 145 हिजरी
दफ़्न स्थान मदीना, बक़ीअ क़ब्रिस्तान
निवास स्थान मदीना
पिता इमाम जाफ़र सादिक़ (अ)
माता फ़ातिमा, हुसैन बिन अली (अ) बिन हुसैन (अ) की बेटी
बच्चे मुहम्मद, अली

इस्माईल बिन जाफ़र (अरबी: إسماعيل بن جعفر الصادق) (मृत्यु: 143 या 145 हिजरी) इमाम सादिक़ (अ) के सबसे बड़े बेटे हैं और इस्माईलिया, उन्हें या उनके बेटे मुहम्मद को इमाम सादिक़ (अ) के बाद इमाम मानते हैं। लेकिन इमामिया और पैग़म्बर (स) की हदीसों के अनुसार, मूसा बिन जाफ़र (अ) इमाम सादिक़ (अ) के बाद इमाम हैं। इस्माईल की इमामत का विश्वास इमामिया से इस्माईलियों के अलग होने और इस्माईली संप्रदाय के गठन की शुरुआत थी।

इस्माईल के चरित्र के बारे में मतभेद है, उनमें से कुछ का हदीसों को दलील और हवाला बनाते हुए यह मानना है कि उनका ग़ालियों के साथ सम्बंध था। लेकिन आयतुल्लाह ख़ूई ने इन रिवायत की औचित्य करते हुए और अन्य रिवायतों को दलील और हवाला बनाते हुए उन्हें एक महान व्यक्ति माना है और यह भी माना है कि उनके पिता उनसे स्नेह करते थे।

इस्माईल की मृत्यु इमाम सादिक़ (अ) के जीवनकाल में हुई थी और उन्हें बक़ीअ में दफ़्नाया गया था। इमाम सादिक़ (अ) ने उनके जनाज़े और दफ़्न को खुले तौर पर आयोजित किया और लोगों को उनकी मौत का गवाह बनाया ताकि उनकी इमामत और मौऊद होने का संदेह दूर हो जाए। इसके अलावा, रिवायत के अनुसार, इस्माईल की मृत्यु के समय के बारे में बदा (ईश्वर की ओर से किसी चीज़ का प्रकटीकरण, सेवकों की अपेक्षा के विपरीत) था, क्योंकि कुछ शियों ने उन्हें इमाम माना था, और उनकी मृत्यु के साथ यह स्पष्ट हो गया कि वह इमाम नहीं थे।

जीवन और परिवार

इस्माईल इमाम सादिक़ (अ) और फ़ातिमा के बेटे और इमाम सज्जाद (अ) के नवासे है।[१] ऐतिहासिक स्रोतों में उनकी जन्म तिथि का उल्लेख नहीं है। हालांकि, 127 हिजरी[२] या 128 हिजरी[३] में इमाम काज़िम (अ) का जन्म हुआ और इमाम काज़िम (अ) मे और इस्माईल[४] में 25 वर्ष का फ़ासला था। यह अनुमान लगाया गया है कि उनका जन्म दूसरी शताब्दी के आरम्भ में हुआ होगा।[५]

अली बिन मुहम्मद अलवी उमरी ने इस्माईल की मृत्यु का वर्ष 138 हिजरी बताया है।[६] जबकि तबरी, तारीख़े तबरी के लेखक का मानना है कि इस्माईल वर्ष 140 हिजरी में जीवित थे।[७] 143[८] और 145 हिजरी[९] में इस्माईल की मृत्यु का उल्लेख किया गया है।

इस्माईल की पीढ़ी उनके बच्चों मुहम्मद और अली के माध्यम से जारी रही।[१०] मुहम्मद के दो बच्चे थे जिनका नाम इस्माईल सानी और जाफ़रे अकबर था।[११] और अली बिन इस्माईल की पीढ़ी भी मुहम्मद नाम के एक बच्चे से बाक़ी है।[१२]

ख़ोरासान, नैशापूर, सामर्रा,[१३] दमिश्क़,[१४] मिस्र,[१५] अहवाज़, कूफ़ा, बग़दाद,[१६] यमन,[१७] सौर,[१८] हल्ब[१९] और क़ुम जैसे स्थान पर इस्माईल के वंशज[२०] रहते हैं।

विश्वसनीयता और चरित्र

शिया रेजाल शास्त्र के विशेषज्ञ आयतुल्लाह ख़ूई (1271-1278) के अनुसार, इस्माईल के चरित्र की वैधता के बारे में दो प्रकार की रवायात हैं। कुछ रिवायतों से उनकी प्रशंसा की जाती है और कुछ से उनकी निंदा की जाती है।[२१] इस्माईल की जिन रिवायतों के माध्यम से निंदा की जाती है, उसमें इस्माईल के मुफ़ज़्ज़ल बिन उमर और बस्साम सैरफी जैसे ग़ालियों के साथ संबंध का उल्लेख किया गया है, और इमाम सादिक़ (अ) इन संबंधों से नाखुश थे।[२२] इसके अलावा, वह कुछ सभाओं में जाते थे जिस के कारण उनके नैतिक योग्यता पर संदेह होता था।[२३] आयतुल्लाह ख़ूई ने, जिन रवायतों में निंदा की गई है उसके दस्तावेज़ों को कमज़ोर माना है और जिन रवायतों में प्रशंसा की गई है उसे प्राथमिकता दी है, इसलिए आयतुल्लाह ख़ूई के अनुसार इस्माईल एक महान व्यक्ति थे और उनके पिता उनसे स्नेह करते थे।[२४]

कुछ ने इस्माईल के ख़ेताबिया के साथ संबंध और इस्माईली संप्रदाय के गठन में उनकी भूमिका का उल्लेख किया है। उनके अनुसार, अबुल खत्ताब और इस्माईल ने इमाम सादिक़ (अ) के जीवनकाल में, एक दूसरे के सहयोग से, विश्वासों की स्थापना की जो इस्माईलिया का आधार बन गया[२५] ऐसा कहा जाता है कि इस दावे का कोई सबूत नहीं है।[२६] फ्रांस के इस्लामिक विद्वान मैसिग्नन भी अबू अल-खत्ताब को इस्माईल का आध्यात्मिक पिता मानते हैं।[२७] अलबत्ता, इस्माईलिया न्यायविद क़ाज़ी नोमान (283-363 हिजरी) का मानना है कि इस्लाईमिया संप्रदाय के गठन में अबुल ख़त्ताब की भूमिका नहीं है और उन्हें एक विधर्मी मानते हैं और इमाम सादिक (अ) द्वारा शापित मानते हैं।[२८]

मंसूर अब्बासी के साथ संचार

मुहम्मद बिन जरीर तबरी, तीसरी चंद्र शताब्दी के एक इतिहासकार ने उल्लेख है कि 140 हिजरी में, मंसूर अब्बासी हज के लिए मक्का गया था, मुहम्मद नफ़्से ज़किया और इब्राहिम, अब्दुल्लाह के पुत्र, और ख़ोरासानी समर्थको का एक समूह, जैसे कई अलवी, मक्का में एकजुट हुए। उनमें से कुछ ने मंसूर की हत्या करने का फैसला किया, लेकिन मुहम्मद ने विरोध किया। इस्माईल ने मंसूर को इस के बारे में सूचित किया और मंसूर ने अब्दुल्लाह को गिरफ़्तार कर लिया और उससे अपने बच्चों की पेशी का आदेश दिया, लेकिन अब्दुल्ला ने इन्कार कर दिया तो उन्हें क़ैद कर लिया गया और उनकी संपत्ति बेच दी गई।[२९]

इस्माईल के इमामत का दावा

इमामिया का दृष्टिकोण

इमामिया विद्वानों ने इस्माईल की इमामत से सम्बंधित रवायत के अस्तित्व से इनकार किया है और रवायतों का उल्लेक किया है जो इस्माईल की इमामत को अस्वीकार करती हैं।[३०] उन रवायतों में, हदीसे लौह[३१] और हदीसे जाबिर[३२] हैं। जिनके अनुसार पैग़म्बर (स) ने बारह इमामों के नाम का उल्लेख किया है और उनमें, जाफ़र बिन मुहम्मद के बाद इमाम, उनके बेटे मूसा को माना गया है, इस्माईल को नहीं। इसके अलावा, इमाम सादिक़ (अ) ने कई मौकों पर अपने करीबी साथियों को मूसा बिन जाफ़र की इमामत की घोषणा की थी। अल-काफ़ी,[३३] इरशाद,[३४] आलामुल वरा[३५] और बिहारूल अनवार,[३६] प्रत्येक किताब में मूसा बिन जाफ़र के इमामत के बारे में अध्याय का वर्णन किया है और इस सम्बंध में अल काफ़ी ने 16, इरशाद ने 46, आलामुल वरा ने 12 और बिहारुल अनवार ने 14 रवायतों का उल्लेख किया है।[३७]

मृत्यु को ज़ाहिर करना

ज़ोरारा बिन आयन की एक रिवायत के आधार पर, इस्माईल की मृत्यु के बाद और उनको दफ़्नाने से पहले, इमाम सादिक़ (अ) ने अपने करीबी तीस साथियों को अपने बेटे की मौत का गवाह बनाया।[३८] और इसी तरह ग़ुस्ल, कफ़न और तशीअ जनाज़ा और दफ़्न को खुले तौर पर आयोजित किया।[३९] और उनकी (इस्माईल) की ओर से हज करने का आदेश दिया।[४०] इस कार्य से इमाम का उद्देश्य लोगों का इस्माईल के प्रति इमाम होने के विश्वास को हटाना था क्योंकि कुछ लोगों का मानना थी कि वह इमाम सादिक़ (अ) के बाद इमाम थे।[४१] अब, कुछ इस्माईलियों के विश्वास के अनुसार, इस्माईल मरे नहीं हैं और अपनी मौत का नाटक करके लोगों को धोखा दिया है और इस धोखे का उद्देश्य अपनी और अपने आसपास के लोगों की जान बचाना था।[४२]

इस्माईलियों का दृष्टिकोण

मुख्य लेख: इस्माईलिया

इस्माईलिया उन संप्रदायों का नाम है जो इमाम सादिक़ (अ) के बाद उनके बेटे इस्माईल या उनके पोते मुहम्मद बिन इस्माईल इमाम को मानते हैं।[४३] इस्माईलिया संप्रदायों में से मुबारकिया और क़रामते का विश्वास यह है कि जाफ़र बिन मुहम्मद के बाद, मुहम्मद बिन इस्माईल हैं क्योंकि इस्माईल इमाम सादिक़ (अ) के उत्ताधिकारी थे लेकिन पिता के जीवन में ही उनकी मृत्यु हो जाने के कारण इमाम सादिक़ (अ) ने उनके बेटे के हवाले इमामत कर दी थी। उनके विश्वास के अनुसार इमाम हसन (अ) और इमाम हुसैन (अ) के बाद जाएज़ नहीं है कि इमामत का पद भाई के बाद भाई को मिले।[४४] साद बिन अब्दुल्लाह अशअरी का मानना है कि यही विश्वास इस्माईलिया संप्रदाय के ख़ालेसा या ख़ेताबिया गुट का भी है।[४५] अन्य इस्माईलिया का मानना है कि इस्माईल बिन जाफ़र की मृत्यु नहीं हुई बल्कि वही महदी मौऊद हैं।[४६]

बक़ीअ क़ब्रिस्तान में, इस्माईल बिन इमाम सादिक़ (अ) के क़ब्र का नक़्शा

हालांकि, इस्माईली स्रोतों और काज़ी नोमान के रचनाओं में, इस्माईल की इमामत के बारे में कोई निश्चित रवायत नहीं है।[४७] हालांकि जाफ़र बिन मंसूर अल यमन दाई इस्माईली ने, तीसरी शताब्दी के अंत और चौथी शताब्दी की शुरुआत, उन्होंने कथावाचकों की श्रृंखला का उल्लेख किए बिना, इस्माईल की इमामत के बारे में हदीसों को एकत्र किया।[४८] कुछ स्रोतों में यह भी कहा गया है कि फ़ातमिया ख़ोलफ़ा ने सबसे पहले इस्माईल के बजाय उनके भाई अब्दुल्लाह अफ़तह को इमाम के रूप में पेश किया। फिर उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया और इस्माईल की इमामत का प्रस्ताव रखा।[४९]

इस्माईल के बारे में बदा

कुछ रवायतों के अनुसार इस्माईल की मृत्यु के समय के बारे में बदा (ईश्वर की ओर से किसी चीज़ का प्रकटीकरण, सेवकों की अपेक्षा के विपरीत) हुआ है, जिससे लोगों को पता चले कि वह अपने पिता के बाद इमाम नहीं थे।[५०] क्योंकि शियों के एक समूह का मानना था कि इस्माईल इमाम सादिक़ (अ) के बाद इमाम हैं अपने पिता के जीवनकाल के दौरान उनकी मृत्यु से यह स्पष्ट हो गया कि वह इमाम नहीं थे और अगले इमाम मूसा बिन जाफ़र (अ) हैं।[५१] हाँलाकि इस्माईली स्रोतों ने बदा की रवायतों को इस्माईल की इमामत से जोड़ा है।[५२]

समाधि

इस्माईल की मृत्यु मदीना के पास उरैज़ नामक क्षेत्र में हुई थी और उन्हें बक़ीअ में दफ़्नाया गया था।[५३] फ़ातमिया खिलाफ़त काल (297-567 हिजरी) के दौरान, उसकी क़ब्र के ऊपर एक मकबरा बनाया गया था।[५४] उनका मकबरा बक़ीअ क़ब्रिस्तान के बाहर बक़ीअ की दीवार से 15 मीटर की दूरी पर, बक़ीअ में दफ़्न इमामों की क़ब्र के सामने पश्चिम दिशा में स्थित थी।[५५] इस्माईल की क़ब्र पर शिया और विशेष रूप से इस्माईलिया ज़ियारत के लिए जाते थे।[५६] मदीना की अपनी यात्रा पर ईरानी हाजी, बक़ीअ की यात्रा के दौरान अक्सर इस इमामज़ादेह की ज़ियारत करते थे, और उनके बारगाह का विवरण उनके यात्रा वृत्तांतों में दर्ज किया गया था।[५७]

मुहम्मद सादिक़ नजमी (1315-1390 शम्सी) के अनुसार, 1394 हिजरी में, बक़ीअ की पश्चिमी सड़क के निर्माण के दौरान, इस्माईल की क़ब्र के आसपास के क्षेत्र को नष्ट कर दिया गया था, और यह अफ़वाह थी कि सदियों के बाद उनका शरीर सही पाया गया था, इस्माईल का शरीर बक़ीअ में ही स्थानांतरित कर दिया गया था। वह स्थान हर्रा के शहीदों के पूर्वी हिस्से में है और हलीमा सादिया की क़ब्र से 10 मीटर की दूरी पर है।[५८]

फ़ुटनोट

  1. शेख़ मुफ़ीद, अल-इरशाद, 1413 हिजरी, खंड 2, पृष्ठ 209।
  2. तबरी, दलाईल इमामा, 1403 हिजरी, पृष्ठ 303।
  3. तबरसी, आलामुल वरा, 1417 हिजरी, खंड 2, पृष्ठ 6।
  4. अबू हताम राज़ी, अल-ज़ीना, पृष्ठ 288, हबीबी मज़ाहेरी द्वारा उद्धृत, "इस्माईल इब्ने जाफ़र", पृष्ठ 648।
  5. हबीबी मज़ाहेरी, दाएरतुल मआरिफ़ बुज़ुर्ग इस्लामी, खंड 8, पृष्ठ 648।
  6. उमरी, अल-मजदी, 1409 हिजरी, खंड 1, पृष्ठ 100।
  7. तबरी, तारीख़ अल-उम्म व अल-मुलूक, 1387 हिजरी, खंड 7, पृष्ठ 524।
  8. ज़रकली, अल-आलाम, 1980, खंड 1, पृष्ठ 311।
  9. सुब्हानी, फ़र्हंगे अक़ाएद व मज़ाहिबे इस्लामी, खंड 7, पृष्ठ 296।
  10. फख़रे राज़ी, अल-शजरातुल अल-मुबारका, 1409 हिजरी, पृष्ठ 101।
  11. फख़रे राज़ी, अल-शजरातुल अल-मुबारका, पृष्ठ 101।
  12. फख़रे राज़ी, अल-शजरातुल अल-मुबारका, 1409 हिजरी, पृष्ठ 103।
  13. बुखारी, सिर अल-सिलसिला अल-अलविया, 1413 हिजरी, पृष्ठ 36।
  14. हम्वी, मोजम अल-बुल्दान, 1995, खंड 2, पृष्ठ 469।
  15. हम्वी, मोजम अल-बुल्दान, 1995, खंड 5, पृष्ठ 142।
  16. अलवी, अल-मजदी, 1409 हिजरी, पृष्ठ 103।
  17. ज़हबी, तारीख अल-इस्लाम, 1410 हिजरी, खंड 20, पृष्ठ 37।
  18. ज़हबी, तारीख अल-इस्लाम, 1410 हिजरी, खंड 30, पृष्ठ 309।
  19. ज़हबी, तारीख अल-इस्लाम, 1410 हिजरी, खंड 12, पृष्ठ 40।
  20. नूरी, खातम अल-मुस्तद्रक, 1415 हिजरी, खंड 4, पृष्ठ 485 देखें।
  21. ख़ूई, मोजम रिजाल अल-हदीस, 1410 हिजरी, खंड 3, पीपी. 124-127 को देखें।
  22. कश्शी, रिज़ल अल-कश्शी, 1409 हिजरी, पृष्ठ 245; ख़ूई, मोजम रिजाल अल-हदीस, 1410 हिजरी, खंड 3, पृष्ठ 125।
  23. उदाहरण के लिए, सदूक़, कमलुद्दीन, 1395 हिजरी, खंड 1, पृष्ठ 70 देखें।
  24. ख़ूई, मोजम रिजाल अल-हदीस, 1410 हिजरी, खंड 3, पृष्ठ 127।
  25. लुईस, द ओरिजिन ऑफ इस्माईलिज्म, पी. 42, हबीबी मजाहेरी द्वारा उद्धृत, "इस्माईल बिन जाफ़र", खंड 9, पी. 650।
  26. हबीबी मजाहेरी, दाएरतुल मआरिफ़ बुज़ुर्ग इस्लामी, खंड 9, 650।
  27. देखें बदवी, शख़्सियात क़लक़ा, पृष्ठ 19, हबीबी मजाहेरी द्वारा उद्धृत, दाएरतुल मआरिफ़ बुज़ुर्ग इस्लामी, पृष्ठ 649।
  28. क़ाज़ी नोमान, दायिम अल-इस्लाम, 1385 हिजरी, खंड 1, पीपी। 49-50।
  29. तबरी, तारिख अल-उम्म और अल-मुलुक, 1387 हिजरी, खंड 7, पृष्ठ 524।
  30. उदाहरण के लिए, सदूक़, कमलुद्दीन, 1395 हिजरी, खंड 1, पीपी.70-71 देखें।
  31. उदाहरण के लिए, कुलैनी, अल-काफी, 1407 हिजरी, पीपी 527-528 देखें।
  32. तबरसी, आलामुल वरा, 1417 हिजरी, खंड 2, पृष्ठ 182।
  33. कुलैनी, अल-काफ़ी, 1407 हिजरी, खंड 1, पीपी 311-307।
  34. मुफ़ीद, अल-इरशाद, 1413 हिजरी, खंड 2, पीपी। 216-222।
  35. तबरसी, आलामुल वरा, 1417 हिजरी, खंड 2, पीपी. 16-7.
  36. मजलिसी, बिहार अल-अनवर, 1403 हिजरी, खंड 48, पीपी 12-29।
  37. लेखकों का एक समूह, इमाम काज़ेम के जीवन और समय पर लेखों का संग्रह, 1392, खंड 2, पीपी 79, 81।
  38. नोमानी, अल-ग़ैबा, 1397 हिजरी, पृष्ठ 328।
  39. नोमानी, अल-ग़ैबा, 1397 हिजरी, पृष्ठ 328।
  40. इब्ने शहर आशोब, अल-मनकीब, 1379 हिजरी, खंड 1, पृष्ठ 266।
  41. देखें तबरसी, आलामुल वरा, 1417 हिजरी, खंड 1, पेज 546; इब्ने शहर आशोब, अल-मनकीब, 1379 हिजरी, खंड 1, पृष्ठ 266।
  42. देखें शाहरिस्तानी, अल-मेलल व अल-नेहल, 1364, खंड 1, पृष्ठ 226; जोवैनी, तारिख जहानगुशाई, 2005, खंड 3, पृष्ठ 146।
  43. मुफ़ीद, अल-फुसूल अल-मुख्तारा, 1413 हिजरी, पृष्ठ 306 देखें।
  44. मुफ़ीद, अल-फुसूल अल-मुख्तारा, 1413 हिजरी, पृष्ठ 306 देखें।
  45. अशअरी, अल-मक़ालात अल-फ़ेरक़, 1360, पृष्ठ 81।
  46. अशअरी, अल-मक़ालात अल-फ़ेरक़, 1998, पृष्ठ 79 को देखें।
  47. हबीबी मजाहेरी,दाएरतुल मआरिफ़ बुज़ुर्ग इस्लामी, खंड 9, 650।
  48. जाफ़र बिन मंसूर अल यमन, सरायर वा असरार अल-नोत्का, 1404 हिजरी, पृष्ठ 256।
  49. इब्ने हज़्म, जुमहरा अंसाब अल-अरब, 1403 हिजरी, पृष्ठ 59।
  50. सदूक़, किताब अल-तौहीद, अल-नशर अल-इस्लामी, पृष्ठ 336।
  51. सुब्हानी, अल-बदा अला ज़ौ अल किताब व अल सुन्नत, 1392, पृष्ठ 131।
  52. जाफ़र बिन मंसूर अल यमन, सरायर वा असरार अल-नोत्का, 1404 हिजरी, पीपी। 246-247।
  53. अलवी, अल-मजदी, 1409 हिजरी, पीपी 100-99।
  54. मुतरी, अल-तारीफ़ बेमा आन्सतो अल-हिजरा, 1426 हिजरी, पृष्ठ 121।
  55. नजमी, तारीख़े हरम आइम्मा ए बक़ीअ, 1380, पीपी। 289-290।
  56. अय्याशी, अल-मदीना अल-मुनवरा फ़ी रेहला अल अय्याशी, 1406 हिजरी, पृष्ठ 175।
  57. उदाहरण के लिए, फ़रहाद मिर्ज़ा मोतमद अल-दौलाह के हज यात्रा वृतांत, पृष्ठ 158 को देखें।
  58. नजमी, तारीख़े हरम आइम्मा ए बक़ीअ, 1380, पीपी। 300-302।

स्रोत

  • इब्ने हज़्म, अली, जुमहरा अंसाब अल-अरब, बैरूत, 1403 हिजरी/1983 ईसवी।
  • इब्ने शहर आशोब, मुहम्मद, अल-मनकीब, क़ुम, अल्लामेह पब्लिशिंग हाउस, 1379 हिजरी।
  • इब्ने अंबा, अहमद, उमदा अल तालिब, मोहम्मद हसन आले तालेकानी का प्रयास, नजफ़, 1380 हिजरी/1961 ई.
  • अशअरी, साद बिन अब्दुल्ला, अल-मक़ालात अल-फ़ेरक., वैज्ञानिक और सांस्कृतिक प्रकाशन, दूसरा संस्करण, 1360।
  • बुखारी, सहल बिन अब्दुल्लाह, सिर अल-सिलसिला अल-अलविया, अल-शरीफ अल-राज़ी प्रकाशन, 1371/1413 हिजरी।
  • बलाज़री, अहमद बिन याहया, جمل من أنساب الأشراف،, शोध: सोहेल ज़क्कार और रेयाज़ अल-ज़रकली, दार अल-फ़िक्र - बेरूत, 1417 हिजरी/1996 ई.
  • जाफ़र बिन मंसूर अल-अयमन, सराएर व असरार अल नुत्क़ा, मुस्तफ़ा ग़ालिब द्वारा प्रयास, बेरूत, 1404 हिजरी/1984 ई.
  • लेखकों का एक समूह, इमाम काज़िम (अ) के जीवन और समय पर सम्मेलन के लेखों का संग्रह, क्यूम, सेमिनरी प्रबंधन केंद्र, 1392।
  • जवीनी, अता मलिक बिन मुहम्मद, तारिख जहानगुशाई, मुहम्मद काज़वीनी द्वारा संपादित, तेहरान, वर्ल्ड ऑफ़ बुक्स, 2005।
  • हबीबी मज़ाहेरी, मसूद, दायरतुल मआरिफ़ बुज़ुर्ग "इस्माईल इब्ने जाफ़र" (खंड 8), तेहरान,
  • हम्वी, याकूत बिन अब्दुल्ला, मोजम अल-बुलदान, बेरूत, दार सदिर, 1995।
  • ख़ूई, सय्यद अबुल क़ासिम, मोजम रेजाल अल-हदीस, शिया प्रकाशन केंद्र, क़ुम, 1410 हिजरी/1369 शम्सी।
  • ज़हबी, मुहम्मद बिन अहमद, तारिख अल-इस्लाम व वफ़ियात अल-मशाहीर: उमर अब्दुस सलाम द्वारा प्रयास, बेरूत, दार अल-किताब अल-अरबी, 1410 हिजरी।
  • सुब्हानी, जाफ़र, अल-बदा अला ज़ौअ अल-किताब व सुन्नत, क़ोम, अल-इमाम अल-सादिक़ फाउंडेशन, 1392।
  • शहरिस्तानी, मुहम्मद बिन अब्दुल करीम, अल मेलल व अल नेहल, मुहम्मद बुदरान द्वारा शोध, क़ुम, अल-शरीफ़ अल-राज़ी, तीसरा संस्करण, 1364।
  • सदूक़, मुहम्मद बिन अली, अल-तौहीद, हाशिम हुसैनी तेहरानी, तेहरान, 2018।
  • सदूक़, मुहम्मद बिन अली, कमल अल-दीन व तमाम अल-नेमा, अली अकबर ग़फ़्फ़ारी द्वारा सुधारा, तेहरान, इस्लामिया, दूसरा संस्करण, 1395 हिजरी।
  • तबरी, तारीख अल उमम व अल मुलूक, बेरूत, दार अल तोरास, दूसरा संस्करण, 1387 हिजरी।
  • तबरसी, फ़ज़ल बिन हसन, आलामुल वरा बेआलाम अल होदा, क़ुम, आलुल बैत, 1417 हिजरी।
  • अलवी, अली बिन मुहम्मद, अल-मजदी फ़ी अंसाब अल-तालेबीन, अल-महदवी के प्रयास से, क़ुम, अल-नजफ़ी स्कूल, 1409 हिजरी।
  • अय्याशी, अल-मदीना अल-मुनवराह फ़ी रेहला अल अय्याशी, मुहम्मद महज़ून द्वारा प्रयास, कुवैत, दार अल-अरक़म, 1406 हिजरी।
  • फ़ख़रे राज़ी, अल-शजरा अल-मुबारका फ़ी अल-अंसाब अल-तालेबिया, आयतुल्लाह मरअशी नजफी स्कूल के चार्टर्स, क़ुम, 1409 हिजरी।
  • फरहाद मिर्ज़ा,सफ़रनामे फ़रहाद मिर्ज़ा, ग़ुलाम रज़ा मजद तबातबाई द्वारा संपादित, वैज्ञानिक प्रेस संस्थान, तेहरान, 1366।
  • काज़ी नोमान मग़रिबी, मुहम्मद, दायम अल-इस्लाम, आलुल बैत संस्थान, क़ुम, 1385 हिजरी।
  • कश्शी, मुहम्मद बिन उमर, रेजाल अल-कश्शी- इख़्तेयार मरफ़ा अल-रेजाल, मुहम्मद बिन तूसी द्वारा तलख़ीस, हसन मुस्तफ़वी द्वारा संपादित, मशहद, मशहद यूनिवर्सिटी पब्लिशिंग हाउस, 1409 हिजरी।
  • कुलैनी, मुहम्मद बिन याक़ूब, अल-काफ़ी, अली अकबर ग़फ़्फ़ारी व मुहम्मद आखुंदी द्वारा संपादित, तेहरान, दारुल किताब अल-इस्लामिया, चौथा संस्करण, 1407 हिजरी।
  • मजलिसी, मुहम्मद बक़िर, बिहार अल-अनवर, बेरूत, दारुल अहया अल तोरास अल अरबी, 1403 हिजरी।
  • मुतरी, मुहम्मद बिन अहमद, अल-तारीफ़ बेमा आनस्तो अल-हिजरा मिन मआलिम दार अल-हिजरा, सुलेमान राहिली द्वारा अनुसंधान, रेयाज़, दारतुल मलिक अब्दुल अज़ीज़, 1426 हिजरी/2005 ईस्वी।
  • मुफ़ीद, मुहम्मद बिन मुहम्मद, अल-इरशाद फ़ी मारेफ़ा हज्जुल्लाह अलल ऐबाद, क़ुम, शेख़ मुफ़ीद की कांग्रेस, 1413 हिजरी।
  • मुफ़ीद, मुहम्मद बिन मुहम्मद, अल-फुसुल अल-मुख्तारा, अली मीर शरीफ़ी द्वारा संपादित, क़ुम, शेख़ मुफ़ीद कांग्रेस, 1413 हिजरी।
  • नजमी, मुहम्मद सादिक़, तारीख़े हरम आइम्मा बक़ीअ, कुम, मशअर, 1380।
  • नोमानी, मुहम्मद बिन इब्राहिम, अल-ग़ैबा, अली अकबर गफ़्फ़ारी द्वारा संशोधित, तेहरान, सदूक़ प्रकाशन, 1397 हिजरी।
  • नोबख्ती, हसन बिन मूसा, फ़ेरक अल शिया, बेरूत, दार अल-अज़वा, दूसरा संस्करण, 1404 हिजरी।
  • नूरी, मिर्ज़ा हुसैन, खातमा अल-मुस्तद्रक, क़ुम, आलुलबैत, 1415 हिजरी।